menu

महिला उद्यमियों का सशक्तिकरण

  • वी हब के इंक्यूबेशन प्रोग्राम से प्रशिक्षण हासिल करने वाले महिलाओं की अगुवाई वाले 47 स्टार्ट-अप से जुड़े कार्यक्रम में तेलंगाना के सूचना तकनीक, इलेक्ट्रॉनिक्स और संचार मंत्री के.टी. रामाराव (मध्य में) और दीप्ति रावुला (बाएं)। फोटोग्राफ: साभार वी हब
  • इंक्यूबेशन और परामर्श के अलावा वी हब द्वारा महिलाओं की अगुवाई वाले स्टार्ट-अप को ऑफ़िस स्पेस और कॉंफ्रेंस रूम जैसी सुविधाएं भी प्रदान की जाती हैं। फोटोग्राफ: साभार वी हब

शुरुआती प्रोत्साहन देकर, सरकारी संसाधनों तक पहुंच बनाकर और वैश्विक सहभागिता नेटवर्क के माध्यम से वी हब महिलाओं के स्वामित्व वाले उद्यमों को बढ़ावा दे रहा है।


2017 में अमेरिकी विदेश विभाग द्वारा हैदराबाद में आयोजित वैश्विक उद्यमिता सम्मेलन (जीईएस) की थीम थी - वुमेन फर्स्ट, प्रॉस्पेरिटी फ़ॉर ऑल (सबसे पहले महिला, सभी की समृद्धि)। यह भारतीय अर्थव्यवस्था में महिला सहभागिता की तरफ महत्वपूर्ण कदम था। सम्म्ेलन के दौरान तेलंगाना सरकार को स्पष्ट तौर पर यह महसूस हुआ कि महिला उद्यमियों को समर्थन देने और उनके मार्गदर्शन के लिए एक समर्पित प्लेटफॉर्म की जरूरत है। इसी विचार को ध्यान में रखते हुए उसने महिला उद्यमियों के लिए एक मंच वी हब की घोषणा मार्च 2018 में की। वी हब की मुख्य कार्यकारी अधिकारी दीप्ति रावुला के अनुसार, ‘‘सम्मेलन से एक चर्चा की शुरुआत हुई जिससे उद्यमिता के क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी को प्रोत्साहित करने और उसके लिए माहौल बनाने के लिए फौरी तौर पर एक मंच तैयार की बात उठी।’’

वी हब का मिशन विशुद्ध रूप से महिलाओं के स्वामित्व वाले स्टार्ट-अप और उद्यमों पर उनके शुरुआती दौर से फोकस करने का है। वी हब, कुछ नए तरह के आइडिया के साथ आने वाले उद्यमियों का मार्गदर्शन उन्हें तकनीकी सहायता, मेंटरिंग और नेटवर्किंग में मदद के जरिए करता है। रावुला के अनुसार, ‘‘कोई भी महिला- चाहे वह उद्यमी बनने की ख्वाहिश रखने वाली हो या उसने काम शुरू ही किया हो या फिर उसे अपने काम को आगे बढ़ाना हो- वे हमसे सहायता मांगने के लिए आगे आ सकती हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘एक काम जो वी हब बहुत अच्छे तरीके से करने में सक्षम है, वह है महिला उद्यमिता को बढ़ावा देने के लिए पूरे परिदृश्य को एक ही सहभागी मंच पर उपलब्ध करा देना।’’ इंक्यूबेशन और मेंटरिंग के अलावा, वी हब महिला स्वामित्व वाले स्टार्ट-अप को कई ऑनसाइट सुविधाएं उपलब्ध कराता है जैसे कि, कोवर्किंग ऑफिस स्पेस, कॉंफ्रेंस रूम, प्रेजेंटेशन के लिए ऑडिटोरियम और बच्चों के लिए खेलने का स्थान आदि।  

जैसा  कि रावुला स्पष्ट करती हैं, ‘‘वी हब की एक खासियत जो उसे दूसरें से अलग बनाती है, वह है यह किसी क्षेत्र विशेष से संबंधित इंक्यूबेटेर नहीं है बल्कि वह देश में हर किसी तरह के इंक्यूबेटर के साथ काम करता है। एक इंक्यूबेटर होने के नाते, हम उन लड़कियों और महिलाओं के लिए प्रोत्साहक का काम भी करते हैं जो तकनीक और उद्यमिता, नीतियों के कार्यान्वयन और क्रेडिट लिंकेज से संबंधित कार्य से जुड़ी होती हैं।’’

नई पहल

जुलाई 20121 में महिलाओं के स्वामित्व वाले 47 भारतीय स्टार्ट-अप को वी हब के इंक्यूबेशन प्रोग्राम से सहायता मिली। तेलंगाना के सूचना तकनीक, इलेक्ट्रॉनिक्स और संचार मंत्री के. टी. रामाराव की मौजूदगी में वी हब ने तीन नए प्रोग्राम शुरू करने की घोषणा की। 

इंपॉवरिंग द ग्रेटर 50 परसेंट कार्यक्रम के हिस्से के रूप में, वी हब एक कार्यक्रम  फेडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के साथ सहभागिता में शुरू करने जा रहा है जिसके तहत उद्यमी बनने की आकांक्षा रखने वाली 100 महिलाओं को प्रशिक्षित किया  जाएगा। साथ ही, भारत के 20 स्थापित स्टार्ट-अप के लिए इंक्यूबेशन प्रोग्राम शुरू किया जाएगा।

गर्ल्स इन स्टीम, एक और दूसरी पहल है जिसे डेटा साइंस, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और इससे जुड़े क्षेत्र की महिला उद्यमियों को एक मंच देने के लिए शुरू किया गया है। इस पहल के तहत वी हब डेटा साइंस के क्षेत्र से जुड़ी महिलाओं और स्टैनफ़र्ड यूनिवर्सिटी के सहयोग से भारत के पांच शहरों, बेंगलुरू, श्रीनगर, मुंबई, हैदराबाद और तिरुअनंतपुरम के 100 स्कूली विद्यार्थियों के समूह का संचालन करेगा।  

वीअल्फा, नाम की तीसरी पहल में, महिला विद्यार्थियों को उद्यमी बनने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। इसके तहत वी हब तेलंगाना के पांच तकनीकी संस्थानों के साथ मिल कर उद्यमिता विकास कार्यक्रमों, मेंटरिंग और उद्यमिता परिवेश से परिचय कराने जैसे कार्यक्रमों के माध्यम से 50 विद्यार्थियों की सहायता करेगा।

भारत मे ऐसे संभावना भरे गठजोड़ों को शुरू करने के अलावा वी हब की कोशिश तकनीकी मदद से दुनिया की तमाम उद्यम आकांक्षी महिलाओं तक पहुंचने की है। वी हब ने हाल ही में महिला उद्यमी बनने की आकांक्षा रखने वाली महिलाओं के लिए लॉंच हर- नाम की एक शैक्षिक वीडियो सिरीज शुरू की है। 20 खंडों की इस शैक्षिक जागरूकता सिरीज़ के जरिए न सिर्फ किसी कारोबार को शुरू करने के बारे में समझ मिलेगी बल्कि इसके जरिए महिला उद्यमियों को अपनी निजी और कारोबारी यात्रा को साझा करने का मौका भी मिलेगा। 

हालांकि, वी हब अपेक्षाकृत नई पहल है लेकिन जैसा कि रावुला का विश्वास है, यह सही दिशा की तरफ अग्रसर है और इसका काफी प्रभाव भी दिखने लगा है। वह कहती हैं, ‘‘हमने पिछले तीन सालों में 12 स्टार्ट-अप प्रोग्रामों में 3400 से ज्यादा महिला उद्यमियों के साथ काम करते हुए, 148 स्टार्ट-अप को इंक्यूबेट करते हुए तीन सौ से ज्यादा रोजगार सृजन का काम किया है। हमने इस दौरान जो ज्ञान और इकोसिस्टम विकसित किया है, उसे महिला उद्यमियों से साझा करना है।’’ महिलाओ में उद्यमिता विकास के लिए सही सूचनाओं तक उनकी पहुंच बहुत मायने रखती है और वी हब की कोशिश पूरी दुनिया में ऐसी सूचनाओं के संप्रेषण के लिए अधिक से अधिक मंचों को तैयार करने की है।

जैसन चियांग स्वतंत्र लेखक हैं। वह सिल्वर लेक, लॉस एंजिलीस में रहते हैं।